Rishabh Pant का रोमांचक बयान: 'तेल लगाओ डाबर का, विकेट गिराओ बाबर का' से विश्व कप मुकाबलों का उत्साह बढ़ा

Rishabh Pant का रोमांचक बयान: 'तेल लगाओ डाबर का, विकेट गिराओ बाबर का' से विश्व कप मुकाबलों का उत्साह बढ़ा

जून, 11 2024

ऋषभ पंत की ताज़ा प्रतिक्रिया

भारतीय क्रिकेटर ऋषभ पंत ने अहम प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि 'तेल लगाओ डाबर का, विकेट गिराओ बाबर का' जैसे नारे क्रिकेट के खेल में रोमांच बढ़ा देते हैं। यह नारा आगामी भारत-पाकिस्तान विश्व कप मैच के दौरान चर्चाओं में है। इस नारे का सीधा उद्देश्य पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम को लक्ष्य बनाना है, और इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि दोनों टीमों के समर्थकों के बीच कितनी गहरी प्रतिस्पर्धा है।

भारत-पाकिस्तान मुकाबलों की महत्ता

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट प्रतिद्वंद्विता हमेशा से ही एक बड़ा मुद्दा रही है। ये मुकाबले सिर्फ खेल नहीं, बल्कि एक जंग की तरह देखे जाते हैं। ऋषभ पंत ने राजत शर्मा के साथ एक साक्षात्कार में बताया कि यह नारे और उत्साह ही इस खेल की आत्मा हैं। उन्होंने यह भी कहा कि दोनों देशों के खिलाड़ी अपनी टीमों के लिए अदम्य प्रयास करते हैं और उनकी मेहनत के प्रति इस प्रकार की प्रतिक्रिया एक सम्मान स्वरूप होती है।

विराट कोहली के साथ IPL 2024 का किस्सा

पंत ने IPL 2024 के दौरान विराट कोहली के साथ हुई एक मजेदार घटना को भी याद किया। उन्होंने बताया कि कैसे वह अनजाने में कोहली को छेड़ते हुए खुद को बचाने में सफल रहे। यह घटना कोहली की टीम RCB के ड्रेसिंग रूम के ठीक पीछे स्थित दर्शक क्षेत्र में हुई थी। ऋषभ ने बताया कि वह पहले इस बात से अनजान थे कि वहां कोहली की टीम का ड्रेसिंग रूम है। लेकिन जब उन्हें पता चला तो उन्होंने मौके का फायदा उठाते हुए कोहली को चिढ़ाया, और खुद को भी बचा लिया।

क्रिकेट के प्रति भारतीय जनता की भावनाएं

ऋषभ पंत की यह प्रतिक्रिया बताती है कि क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं, बल्कि भारतीयों की भावनाओं का अटूट हिस्सा है। इस खेल को लेकर लोगों में जोश और जुनून का स्तर इतना अधिक है कि वे अपने पसंदीदा खिलाड़ियों और टीमों के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। इस प्रकार के नारे और उत्साह खिलाड़ियों को भी अपना सर्वोत्तम प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करते हैं।

पंत का यह बयान एक बार फिर से यह सिद्ध करता है कि भारतीय क्रिकेट फैंस की अपने खिलाड़ियों के प्रति दीवानगी और खेल के प्रति लगाव खेल की आत्मा को और भी जीवंत बनाते हैं।

भारत-पाकिस्तान मैच: क्या उम्मीदें हैं?

भारत-पाकिस्तान मैच: क्या उम्मीदें हैं?

पंत की बातें इस ओर संकेत करती हैं कि भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर न सिर्फ खिलाड़ी बल्कि दर्शक भी पूरी तरह से तैयार हैं। ऐसे मुकाबलों में न सिर्फ मैदान पर बल्कि मैदान के बाहर भी माहौल गरम रहता है। दोनों देशों के दर्शक एक-दूसरे को चिढ़ाने और अपनी टीम को सपोर्ट करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। यह खेल की उस भावना को उजागर करता है जो खिलाड़ियों और दर्शकों को एक साथ बांध कर रखती है।

खिलाड़ियों की मेहनत और संघर्ष

पंत ने अपने इंटरव्यू में इस बात को भी रेखांकित किया कि भारतीय और पाकिस्तानी खिलाड़ी अपनी-अपनी टीमों के लिए कितनी मेहनत करते हैं। उन्होंने कहा कि दोनों टीमें अपने देश के लिए खेलती हैं और उनकी मेहनत का सम्मान किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि इस प्रकार के मुकाबलों में जीत और हार से कहीं अधिक, खिलाड़ियों की मेहनत और संघर्ष का महत्व होता है।

भावनाओं का चरम

भावनाओं का चरम

विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में खेला जाने वाला भारत-पाकिस्तान मुकाबला खिलाड़ियों और दर्शकों दोनों के लिए भावनात्मक रूप से बहुत महत्वपूर्ण होता है। दोनों देशों के फैंस इस मुकाबले का बेसब्री से इंतजार करते हैं और अपनी-अपनी टीमों को जीतते हुए देखना चाहते हैं। ऋषभ पंत का यह बयान दर्शाता है कि कैसे क्रिकेट की एकजुटता ने दोनों देशों के बीच की दूरी को कम किया है और यह नारा उस भावना का प्रतीक है।

संघर्ष और उम्मीद

पंत की यह प्रतिक्रया यह भी बताती है कि भारतीय क्रिकेटर न सिर्फ खेल के लिए बल्कि अपने दर्शकों के लिए भी मैदान में पूरी जान लगा देते हैं। इन नारों में छिपी हुयी भावनाएं और उम्मीदें खिलाड़ियों को अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए प्रेरित करती हैं।

लोकप्रिय लेख

हार्दिक पांड्या और नताशा स्तानकोविच के रिश्ते पर संकट के बादल: अफवाहों के बीच क्या सच है

आगे पढ़ें

ऐतिहासिक ऊंचाइयों पर पहुंचे सेंसेक्स और निफ्टी: यहाँ जानें आपकी निवेश रणनीति

आगे पढ़ें

नीरज चोपड़ा की गोल्डन स्पाइक मीट से वापसी: चोट नहीं, एहतियातन कदम

आगे पढ़ें

टारक मेहता का उल्टा चश्मा फेम एक्टर गुरचरण सिंह की आध्यात्मिक यात्रा के बाद घर वापसी, नए खुलासे सामने आए

आगे पढ़ें